Purification, illumination and perfection, the three great stages of the ascent

Gyaneshwari Is Best Commentary On Bhagwat Geeta

Jneneshwari is a commentary on the Bhagavad Gita written by the Marathi saint and poet Sant Jneneshwar in 1290 CE.  Jneneshwar (born 1275) lived a short life of 21 years, and this commentary is not able to have been composed in his teens. The text is the oldest surviving literary work in the Marathi language, one that inspired major Bhakti movement saint-poets such as Eknath and Tukaram of the Varkari (Vithoba) tradition. The Jneneshwari interprets the Bhagavad Gita in the Advaita Vedanta tradition of Hinduism. The philosophical depth of the text has been praised for its aesthetic as well as scholarly value.

ज्ञानेश्वरी 1290 ई. में मराठी संत और कवि संत जनेश्वर द्वारा लिखित भगवद गीता पर एक टिप्पणी है। संत ज्ञानेश्वर (जन्म 1275) ने 21 वर्ष का छोटा जीवन व्यतीत किया, और यह टीका उनकी किशोरावस्था में रचित होने के लिए उल्लेखनीय है। पाठ मराठी भाषा में सबसे पुराना जीवित साहित्यिक कार्य है, जिसने प्रमुख भक्ति आंदोलन संत-कवि जैसे वारकरी (विठोबा) परंपरा के एकनाथ और तुकाराम को प्रेरित किया। ज्ञानेश्वरी  हिंदू धर्म की अद्वैत वेदांत परंपरा में भगवद गीता की व्याख्या करती है। पाठ की दार्शनिक गहराई की प्रशंसा उसके सौंदर्य और विद्वतापूर्ण मूल्य के लिए की गई है।

Download the Hindi PDF from Here

Download the English PDF from Here

Previous Post Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *