Must Read 05 Days Shaktimaan

Main Brief

Must Know About 05 Days Shaktimaan Course

Kundalini is the inherent spiritual energy in our body present at seven centers of our body. Kundalini Energy is not supposed to be awakened forcibly, by energy healing, Hatha Yoga, or doing any practice with an intention to awaken kundalini. Kundalini Is hidden energy that can be felt and experienced on regular spiritual practice on the directives of a spiritual Master just like butter is extracted & tasted by churning milk. However, you shouldn’t worry about the kundalini energy & awakening process. You shouldn’t worry about any spiritual Master if you are able to get or follow. Always remember that “Kundalini Awakening” shouldn’t be your purpose of life although it is required for fast spiritual progress followed by understanding the subtle spiritual vibrations of different spiritual worlds & spectrums. Your purpose & practice should be aligned with regular spiritual progress & experience of spiritual bliss in day-to-day life in whatsoever situation or problems you are in. As a result, it would be highly productive towards the sublimation of sexual energy.

कुंडलिनी हमारे शरीर में निहित एक आध्यात्मिक ऊर्जा है जो कि हमारे शरीर में 7 केंद्रों पर स्थित होती है. ध्यान रखने वाली बात ये है कि कुंडलिनी ऊर्जा को बलपूर्वक, हठयोग द्वारा अथवा खुद की इच्छा से अभ्यास द्वारा जाग्रत करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. कुंडलिनी एक छुपी हुई ऊर्जा है जो कि किसी आध्यात्मिक गुरु के सानिध्य में निरंतर प्रयास द्वारा महसूस की जा सकती है, ये प्रक्रिया ठीक दुध में से मक्खन निकालने जैसी होती है. यद्यपि आपको इसमे कुंडलिनी ऊर्जा एवं उसके जाग्रत होने के तरीके के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए. यदि आपको कोई ऐसा आध्यात्मिक गुरु अनुसरण करने को ना भी मिले तो भी आपको चिंता नहीं करनी चाहिए. हमेशा ये ध्यान रखें कि “कुंडलिनी जागरण ” की प्रक्रिया आपकी जिंदगी का मुख्य ध्येय नहीं होना चाहिए हालंकि यह ‘विभिन्न आध्यात्मिक दुनिया और उनके तरंगो के सूक्ष्म आध्यात्मिक कंपन’ की समझ के बाद तेज गति से आध्यात्मिक उन्नती के लिए जरूरी है. दिन- प्रतिदिन के जीवन में जिस भी स्थिति या समस्याओं में आप है आपका ध्येय और अभ्यास नियमित रूप से आध्यात्मिक प्रगति और आध्यात्मिक आनंद के अनुभव के साथ संरेखित करते रहने में होना चाहिए. नतीजतन, यह यौन ऊर्जा के ऊर्ध्व गमन में अत्यधिक उपयोगी होगा |

If Kundalini Energy is so powerful & beneficial for quick spiritual progress & sex sublimation, then why it is not felt or experienced so easily?

As a farmer has to harvest grains and wait a particular period of time to cut the corps, so the aspirant has to harvest spiritual knowledge, understanding, consistent practice, faith, discipline, patience and wait for fruitful results without any expectation. It is a universal truth that darkness can’t exist when the sun shines in front, so it is the same with spiritual aspirants with regard to kundalini energy experience & sex sublimation when they regularly practice spirituality & a disciplined lifestyle.

Why we shouldn’t awaken our kundalini forcibly, by energy healing, Hatha Yoga, or doing any practice in the absence of Guru?

Yes, it is more harmful to do this and it has many side effects. Kundalini has its own channel, flows, spiritual discipline. You can’t just awaken it with mere practice, force or intention. The best method to awaken Kundalini energy is first you should know what Kundalini Energy is, where are centers, how they look like in subtle eye, what is their qualities, what are symptoms after activation, what are the benefits, second you have to forget activating Kundalini Energy, Third just keep leading simple spiritual lifestyle like doing Japa, Meditation, Yoga, reading good spiritual books, contemplation, etc. It will activate your Kundalini Energy very smoothly without any harm, without any forcible practice, you may experience various symptoms of Kundalini which you may have read about. However any enlightened spiritual master only can decide to awaken your kundalini by transferring his power at a particular point of time & situation if he thinks it is appropriate but never approach or expect for this. Just leave on nature and lead a Spiritual lifestyle and Brahmacharya lifestyle.

What are the harms of forcibly awakening kundalini by energy healers or any means?

Think about what will happen to the wire which capacity is 440V but you want to pass 11KV electricity through it. So untimely, purposeful, forcibly Kundalini awakening may cause insanity, breathlessness, stoppage of body & brain functions temporarily or for a lifetime, false programming of the spiritual mind, etc. So never go for it. Just Go for spiritual practice, it is not only good for spiritual progress & sex sublimation but also for the awakening of Kundalini very smoothly, automatically, slowly in a disciplined manner.

What are the purpose & benefits of this 7 days Kundalini course/sex sublimation?

We have already created a more premium brain rewire for increasing imagination power, reprogramming the subconscious mind, creating a positive impression on the mind, rebuilding the spiritual mind, etc. This program is also quite similar to them but this is very powerful enough as it will create energy vibration across your body with the help of music. Music, when well arranged with Indian classical Raga/tunes, has a subtle effect on our physical body as well as the subtle body, music can work like a miracle if you properly focus on Raga-based music & songs. You may have heard of musician/singers were capable enough to cause rain falling, blossoming of flowers, etc instantly by the power of raga based song & music. Music is solely connected to nature & the creator, hence we are directly influenced by the respective type of music. Music is the prime part of our Brain Rewire problem. In this particular course, we will give instructions to keep silent and follow some instructions in your mind, you have to focus your mind on music & contemplation. It will increase your spiritual power & level in 7 days followed by rising up your Kundalini Energy very smoothly, slowly, automatically without your knowledge.

What should I do after completion of this course?

Firstly, you have to well prepare yourself as per the instructions given in the following paragraphs before starting this course. You should listen to this music day-wise and repeat this course three times a month. Try to remember and note down in your diary what you have learned and experienced after doing this course. You can lead your normal life but remember that you are not just a mortal existence rather you are a purely spiritual entity who is free from all types of outside panic influence, negative influence, negative practice,  diseases, etc. Always bear in mind this spiritual-moral while leading your normal life. You can continue doing this course from time to time when you feel right & comfortable. Best wishes for this amazing audio session course. Please follow the below instructions carefully.

Who is the course instructor and what is the specific nature of this course?

ManthanHub Creator – Radheshyam, will be giving you instructions after you purchase this course. You will be given a private link to watch the video for five days. You need to read the necessary pre-preparatory guidelines before starting this course.

How to contact the Instructor if I want to ask about certain course-related queries?

You can very well reach the course instructor with this email – brainrewire108@gmail.com

यदि कुंडलिनी ऊर्जा त्वरित आध्यात्मिक प्रगति और यौन ऊर्जा को ऊर्ध्व गामी बनाने के लिये इतनी शक्ति शाली और लाभकारी है, तो इसे इतनी आसानी से महसूस या अनुभव क्यों नहीं किया जा सकता है?

जैसा कि एक किसान को अनाज को पहले उगाना पड़ता है और फिर फसल को काटने के लिये एक निश्चित अवधि का इन्तेज़ार करना पड़ता है, ठीक उसी तरह सीखने वाले को बिना किसी अभिलाषा के साथ, आध्यात्मिक ज्ञान, समझ, निरंतर अभ्यास, विश्वास, अनुशासन और धैर्य के साथ परिणामों की प्रतीक्षा करनी चाहिए. यह एक सार्वभौमिक सत्य है की जब सूरज सामने चमकता है तो अंधेरा मौजूद नहीं हो सकता, इसलिए यह कुंडलिनी जागरण अनुभव और यौन ऊर्जा ऊर्ध्वगमन प्रक्रिया भी ठीक इसी तरह होते जब ये नियमित रूप से आध्यात्मिकता और अनुशासित जीवन शैली के साथ अभ्यास किये जाते है.

हमें अपनी कुंडलिनी जागरण प्रक्रिया को जबरन, ऊर्जा उपचार, हठयोग या गुरु की अनुपस्थिति में क्यों नहीं करना चाहिये?

हां, ऐसा करना अधिक हानिकारक है और इसके कई दुष्प्रभाव है. कुंडलिनी का अपना मार्ग, प्रवाह और आध्यात्मिक अनुशासन है. आप इसे केवल अभ्यास, बल या इरादे के साथ नहीं जगा सकते. कुंडलिनी ऊर्जा को जगाने के लिये आपको सबसे पहले ये पता होना चाहिए कि कुंडलिनी ऊर्जा क्या है? केंद्र कहा है? वे सूक्ष्म आँखों से कैसे दिखते है, उनके गुण क्या है, जागरण के बाद उनके लक्षण क्या है, लाभ क्या है. दूसरा यह कि आपको भुलना होगा की कुंडलिनी को सक्रिय करना है. तीसरा यह कि आप आध्यात्मिक जीवन शैली को बनाये रखे जैसे कि जप, ध्यान, योग, अच्छी अध्यात्मिक पुस्तकें पढ़ना आदि. यह आपकी कुंडलिनी ऊर्जा को बिना किसी हानि के, बिना किसी जबरन अभ्यास के बहुत आसानी से सक्रिय कर देगा, आप कुंडलिनी के विभिन्न लक्षणों का अनुभव कर सकते है जिनके बारे मे आपने पढ़ा होगा. हालंकि कोई भी प्रबुद्ध आध्यात्मिक गुरु किसी विशेष समय और स्थिति में अपनी शक्ति को स्थानांतरित करके अपनी कुंडलिनी को जाग्रत करने का निर्णय ले सकता है, अगर उसे लगता है कि यह उचित है. लेकिन इसके लिए आपकी दृष्टिकोण या अपेक्षा नहीं होनी चाहिए. इसे बस प्रकृति पर छोड़ दे और एक आध्यात्मिक जीवन शैली और ब्रह्मचर्य जीवन शैली की ओर आगे बढ़े.

ऊर्जा आरोग्य करने वालों या किसी और माध्यम से जबरन कुंडलिनी जागरण के क्या नुकसान है?

यह समझे कि उस तार का क्या होगा जिसकी क्षमता 440V है लेकिन उसमें आप 11KV बिजली प्रवाहित करना चाहते है. जबरन, अस्वाभाविक, उद्देश्य पूर्ण तरीके से कुंडलिनी जागरण करने से पागलपन, साँस की तकलीफ, अस्थायी रूप से या जीवन भर के लिए शरीर और मष्तिष्क के कार्यों का ठहराव, आध्यात्मिक मन की झूठी प्रोग्रामिंग आदि दुष्प्रभाव हो सकते हैं. इसीलिए इस तरीके से कभी भी कोशिश ना करें. बस आध्यात्मिक अभ्यास करते जाये, यह ना केवल आध्यात्मिक प्रगति और यौन ऊर्जा के ऊर्ध्व गमन के लिए अच्छा है बल्कि कुंडलिनी को आसानी से, धीरे-धीरे अनुशासित तरीके से जाग्रत करने के लिए भी सहायक है.

इस 7 दिनों के कुंडलिनी /यौवन ऊर्जा ऊर्ध्व गमन पाठयक्रम के उद्देश्य और लाभ क्या है?

हमने पहले से ही कल्पना शक्ति को बढ़ाने के लिए एक बहुमूल्य मष्तिष्क पुनर्निर्माण कोर्स का निर्माण किया है जो कि अवचेतन मन का पुनर्निर्माण, मन में सकारात्मक भाव वर्धक,आध्यात्मिक दिमाग के पुनर्निर्माण आदि करने का काम करता है. यह कार्यक्रम भी इसी से मिलता-जुलता है लेकिन यह काफी शक्तिशाली है क्योंकि यह संगीत की मदद से आपके शरीर में ऊर्जा का संचार करेगा. संगीत जब भारतीय शास्त्रीय राग/धुनों के साथ अच्छी तरह व्यवस्थित होता है, तो हमारे भौतिक शरीर के साथ-साथ सूक्ष्म शरीर पर भी सूक्ष्म प्रभाव डालता है, यदि आप राग आधारित संगीत और गीतों पर ध्यान केंद्रित करते है तो संगीत एक चमत्कार की तरह काम कर सकता है. आपने संगीतकार/गायकों के बारे में सुना होगा जो कि राग आधारित गीत और संगीत की शक्ति द्वारा तुरंत बारिश गिरने, फूलों के खिलने आदि के लिए सक्षम थे. संगीत पूरी तरह से प्रकृति और निर्माता से जुड़ा हुआ, इसलिए हम संबंधित प्रकार के संगीत से सीधे प्रभावित होते है. संगीत हमारे मष्तिष्क पुनर्निर्माण प्रक्रिया का एक प्रमुख हिस्सा है. इस विशेष पाठयक्रम में हम चुप रहने और आपके दिमाग में कुछ निर्देशों का पालन करने के निर्देश देंगे, आपको अपने दिमाग को संगीत और चिंतन पर केंद्रित करना होगा. यह आपकी आध्यात्मिक शक्ति और स्तर को 7 दिनों में बढ़ा देगा और इसके बाद आपकी कुंडलिनी ऊर्जा अपने आप स्वतः ही आसानी से धीरे-धीरे बढ़ेगी.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद मुझे क्या करना चाहिए?

सबसे पहले आपको इस पाठयक्रम को शुरू करने से पहले निम्नलिखित अनुच्छेद (पैराग्राफ) में दिए गए निर्देशों के अनुसार खुद को अच्छी तरह से तैयार करना होगा. आपको दिन-प्रतिदिन इस संगीत को सुनना चाहिए और इस कोर्स को महीने में 3 बार दोहराना चाहिए. इस कोर्स के करने के बाद आपने जो कुछ सीखा और अनुभव किया है उसे अपनी डायरी में याद रखने और नोट करने की कोशिश करें. आप अपने सामन्य जीवन का नेतृत्व कर सकते है, लेकिन याद रखें कि आप केवल एक नश्वर अस्तित्व नहीं है, बल्कि आप एक विशुद्ध आध्यात्मिक इकाई है जो सभी प्रकार के बाहरी भयावह प्रभाव, नकारात्मक प्रभाव नकारात्मक अभ्यास, बीमारियों आदि से मुक्त हैं. अपने सामन्य जीवन का नेतृत्व करते हुए इस आध्यात्मिक नैतिकता को हमेशा ध्यान में रखें. जब आप सही और आरामदायक महसूस करते है तो आप समय-समय पर इस कोर्स को करना जारी रख सकते है. इस अद्भुत ऑडियो सत्र के पाठयक्रम के लिए शुभकामनाएं. कृपया नीचे दिए गए निर्देशों का ध्यानपूर्वक पालन करें.

पाठयक्रम प्रशिक्षक कौन है और इस पाठ्यक्रम की विशिष्ट प्रकृति क्या है?

मंथनहब निर्माता- राधेश्याम, इस कोर्स को खरीदने के बाद आपको निर्देश देंगे. आपको 5 दिनों तक वीडियो देखने के लिए एक वीडियो लिंक दिया जायेगा. इस कोर्स को शुरू करने से पहले आपको अावश्यक पूर्व तैयार दिशा-निर्देशों को पढ़ना होगा.

यदि मैं पाठयक्रम से संबंधित प्रश्नों के बारे में पूछना चाहता हूं तो प्रशिक्षक से कैसे संपर्क करें?

आप नीचे दिए ईमेल के जरिए पाठयक्रम प्रशिक्षक तक बहुत आसानी से पहुंच सकते है.
brainrewire108@gmail.com

Know the benefits

  • Bio-electric Energy present in your body will move upward making your imagination & thoughts pure & sublime
  • Decrease of personality defects & increase of spiritual quality
  • Removal of negative energy & receiving of positive & cosmic energy
  • Increase of spiritual level to a higher degree
  • Awakening of Kundalini energy centers slowly, smoothly in a disciplined manner with positive spiritual experience
  • Decrease negative imagination, negative thoughts, lustful thoughts, overthinking, unnecessary imagination
  • Increase of positive aspiration, positive imagination, creative imagination, positive affirmation, and productive qualities
  • The decrease in negative behavior, harmful acts, harmful practices, and anything that gives bad results to your mind & body
  • Helpful towards quitting bad habits like masturbation, porn addiction, sex addiction, worldly unnecessary attachments
  • Development of spiritual character, social character, above human level character which bears higher understanding of nature and its rules
  • You may experience many positive benefits that cannot be listed here, you may give your feedback to Manthanhub in this respect for general motivation – brainrewire108@gmail.com

  • • आपके शरीर में मौजूद जैव विद्युत ऊर्जा आपकी कल्पना और विचारो को शुद्ध और उद्धत बनाते हुए ऊपर की ओर बढ़ेगी
  • • व्यक्तित्व दोषों की कमी और आध्यात्मिक गुणवत्ता में वृद्धि
  • • नकारात्मक ऊर्जा को दूर करना और सकारात्मक एवं लौकिक ऊर्जा प्राप्त करना
  • • आध्यात्मिक स्तर को ऊँची सीमा तक बढ़ाना
  • • सकारात्मक आध्यात्मिक अनुभव के साथ कुंडलिनी ऊर्जा केंद्रों को धीरे-धीरे अनुशासित तरीके से जाग्रत करना
  • • नकारात्मक कल्पना, नकारात्मक विचारों वासना पूर्ण विचारों, अति कल्पना, अनावश्यक कल्पना को कम करना
  • • सकारात्मक आकांक्षा, सकारात्मक कल्पना, रचनात्मक कल्पना, सकारात्मक प्रतिज्ञान, और उत्पादक गुणों की वृद्धि
  • • नकारात्मक व्यवहार, हानिकारक कार्य हानिकारक प्रथाओं और जो कुछ भी आपके मन और शरीर को खराब कर देता है, उन दुर्गुणों में कमी
  • • हस्तमैथुन, पोर्न की लत, सेक्स की लत, सांसारिक अनावश्यक जुड़ाव जैसी बुरी आदतों को छोड़ने में मददगार
  • • आध्यात्मिक चरित्र, सामाजिक चरित्र, मानव स्तर के चरित्र से ऊपर जो प्रकृति और उसके नियमों की उच्च समझ रखता है जैसे गुणों का विकास
  • • आप तमाम सारे अच्छे अनुभव कर सकते है जो कि यहां सूची बद्ध नहीं किया जा सकता, यद्यपि इस सन्दर्भ में उत्साहवर्धन हेतु आप अपनी प्रतिक्रिया मंथनहब को नीचे दिए गए लिंक पर दे सकते हैं – brainrewire108@gmail.com

Listen to the sample music

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *